Saturday, December 5, 2020
ड्रिप व मिनी और माइक्रो स्प्रिंकलर सिस्टम बूंद बूंद सिंचाई

भारतीय किसान में आप सभी किसान साथीयो का हार्दिक अभिनन्दन है | आज भारतीय किसान आप क लिए जानकारी लाया है
जो की सिचाई से सम्बंधित हे | जिस में आप को ड्रीप व मिनी / माइक्रो स्प्रिंगलर के बारे में सब्सिड़ी व लाभ व फसल में होने वाले
परवर्तन के बारे में जानकारी दी है |

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत सूक्ष्म सिंचाई योजना में पानी का समुचित उपयोग हो इसके लिये सूक्ष्म सिंचाई पद्धतियों को अपनाना कृषकों एवं फसल उत्पादन के लिए लाभकारी है ।
बूंद – बूद सिचाई प्रणाली जल बचत एवं अधिक उत्पादन प्राप्ति के दृष्टिकोण से सूक्ष्म सिंचाई योजना अति उपयोगी एवं वैज्ञानिक तकनीक है ।
जल बचत , फसल उत्पादन लागत में कमी , उत्पादन एवं उत्पादन की गुणवत्ता में बढ़ोतरी तथा फर्टिगेशन के द्वारा पोषक तत्वों के दक्ष उपयोग के मद्देनजर बूंद – बूंद सिंचाई प्रणाली समय की आवश्यकता है ।
पद्धति के उद्देश्य
•जल की बचत और फसल पैदावार एवं गुणवत्ता में वृद्धि
•ऊबड़ – खाबड़ या ढालू भूमि पर भी सिंचाई के लिए अनुकूलता
•उर्वरको का दक्ष उपयोग

ड्रीप बून्द बून्द सिचाई

• कम खरपतवार • फसल उत्पादन की लागत में कमी योजना के घटक
• ड्रिप सिंचाई संयंत्र / मिनी स्प्रिंकलर / माइक्रो स्प्रिंकलर फव्वारा सिंचाई संयंत्र / रेनगन योजना हेतु पात्रता
• कृषक के पास भू – स्वामित्व होना चाहिए ।
• कृषक के पास सिंचाई की सुविधा हो ।
• उद्यान विभाग में पंजीकृत निर्माताओं के बी . आई . एस . मार्क संयंत्र क्रय किये हों ।
• गत सात वर्ष के दौरान पांच हैक्टेयर की अधिकतम सीमा में सूक्ष्म सिंचाई संयत्रो पर अनुदान न लिया हो । अनुदान की प्रक्रिया
• कृषक द्वारा निर्धारित आवेदन पत्र आवश्यक दस्तावेज ऑनलाइन एवं
हॉर्डकॉपी संबंधित क्षेत्र में कृषि / उद्यान विभाग के कार्यालय में भेजा जाए ।
• विभाग द्वारा संयंत्र का भौतिक सत्यापन ।
• पात्र लाभार्थी / आपर्तिकर्ता के पक्ष में अनुदान स्वीकृति एवं ऑनलाइन अनुदान जारी किया जाता है ।
अनुदान की सीमा पात्र कृषक को फव्वारा / मिनी / माइक्रो स्प्रिंकलर / ड्रिप संयंत्र पर अधिकतम 5 हैक्टेयर तक अनुदान देय होगा । अनुदान की गणना भारत सरकार द्वारा निर्धारित इकाई लागत के आधार पर की जायेगी ।

mini / micro springlar

अनुदान का विवरण निम्नानुसार है

सामान्य श्रेणी के किसान को फव्वारा संयंत्र पर 50 प्रतिशत और मिनी /माइक्रो स्प्रिंकलर / ड्रिप पर भी 50 प्रतिशत अनुदान है।लघु /सीमांत किसान को जिन किसानों के नाम पर कम भूमि है उन के लिए फव्वारा पर 60 प्रतिशत तथा मिनी /माइक्रो स्प्रिंकलर/ड्रिप पर 70 प्रतिशत अनुदान देय है ।

भारतीय किसान पर जानकारी मिलती रहे इस के लिए बने रहे , भारतीय किसान के साथ
नोटिफेक्शन ऑन करे या अलोव करे | जल्द हाजिर होंगे एक नई जानकारी के सात तब तक बने रहे
भारतीय किसान के सात जय हिन्द जय भारत
धन्यवाद

Tags: , , , , ,

0 Comments

Leave a Comment

RECENTPOPULARTAGS